ambala today news पढ़िए खबर : रेल गाड़ी से सफर करने वालों के लिए खबर, कोविड-19 के चलते रेलवे ने किया बदलाव

( अंबाला कवरेज) मंडल रेल प्रबंधक गुरिंदर मोहन सिंह के मार्गदर्शन में उत्तर रेलवे के अंबाला मंडल ने आरक्षण चार्ट के रिकॉर्ड के डिजिटल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए एक और कदम आगे बढ़ाया है। एक प्रमुख बदलाव में, आरक्षण चार्ट से संबंधित रिकॉर्ड के भौतिक संरक्षण से आॅनलाइन संरक्षण के लिए, मंडल ने आरक्षण चार्ट के रिकॉर्ड को छह महीने तक आॅनलाइन रखने की सुविधा को सक्रिय कर दिया है।
गुरिंदर मोहन ने कहा कि जैसा कि विदित है कि ट्रेनों में टिकटों की जांच करने, यात्रियों को टिकट की स्थिति देखने के लिए और अगले छह महीने तक यात्रियों का रिकॉर्ड रखने के लिए तीन प्रतिलिपियों में चार्टिंग की जाती है। अब मंडल ने सीआरआईएस (सेंटर फॉर रेलवे डेवलपमेंट सिस्टम) की मदद से पिछले छह महीने तक के रिजर्वेशन चार्टिंग के डेटा को एक्सेस करने की सुविधा को सक्षम कर दिया है। इसके कार्यान्वित होने से, चार्ट की रिकॉर्ड प्रतिलिपि को छह महीने तक रखने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि इस सशक्त आईडी के माध्यम से रिकॉर्ड को किसी भी समय एक्सेस किया जा सकता है। इस प्रकार स्टेशनरी, मैनपावर और इस रिकॉर्ड को बनाए रखने में प्रयुक्त स्थान को बचाया जा सकता है। यह न केवल इको फ्रेंडली कदम है, बल्कि पर्याप्त मात्रा में धन की बचत भी है। इस आईडी उपयोग से, उपयोगिता धारक की भारतीय रेलवे में संचालित सभी ट्रेनों के आरक्षण चार्ट तक पहुंच होगी।

ambala today news पढ़िए खबर: कोरोना को लेकर अंबाला डीसी अशोक शर्मा ने किया दिए निर्देश

पेपरलेस और संपर्क रहित टिकट चेकिंग को बढ़ावा देने के लिए अंबाला मंडल की पहल
उत्तर रेलवे के अंबाला मंडल ने मंडल रेल प्रबंधक गुरिंदर मोहन सिंह के मार्ग दर्शन में पेपरलेस और संपर्क रहित टिकट चेकिंग को बढ़ावा देने के लिए एक और कदम आगे बढ़ाया है। इसके लिए अलावा मंडल में एसएमएस के माध्यम से क्यूआर कोड भेजने की शुरूआत करके संपर्क रहित टिकट जाँच की सुविधा को सक्षम किया गया है। आरक्षित टिकटों के संपर्क रहित टिकट की जाँच के लिए, क्रिस के सहयोग बुक की गई टिकट के लिए यात्री के मोबाइल पर मेसेज भेजा जाता है। जिसमें पीआरएस टिकट विवरण को क्यूआर कोड के रूप में प्रदर्शित किया जाता है। गुरिंदर मोहन सिंह ने बताया कि सफल बुकिंग पर, यात्री मोबाइल नंबर पर क्यूआर कोड वाला एक एसएमएस भेजा जाएगा। स्टेशन में प्रवेश करने या टिकट की जांच के दौरान, यात्री अपने एसएमएस में उपलब्ध क्यूआर कोड यूआरएल पर क्लिक करेगा। आरक्षित टिकट का क्यूआर कोड यात्री के मोबाइल ब्राउजर पर प्रदर्शित किया जाएगा। टीटीई अपने मोबाइल डिवाइस के माध्यम से प्रदर्शित क्यूआर कोड को स्कैन करेगा, जिसमें क्यूआर कोड (गूगल प्ले स्टोर या आईओएस ऐप स्टोर जैसे कि क्यूआर एंड बारकोड स्कैनर, क्यूआर कोड रीडर में उपलब्ध कोई भी मुफ्त क्यूआर कोड स्कैनर ऐप) स्कैन करने की क्षमता होगी। हैंड हेल्ड टर्मिनल (एचएचटी) एप्लिकेशन भी इस क्यूआर कोड को स्कैन करने में सक्षम है जो स्वचालित रूप से टिकट चेक करने पर टीटीई के लिए ऌऌळ पर पीएनआर विवरण को प्रमाणित कर अग्रिम कार्रवाई कर देगा।

पढ़िए खबर: शहर को सुंदर बनाने के लिए नगर निगम में स्पेशल टीम ग‌ठित करने के किस ने दिए निर्देश, क्या होगा शिफ्ट ओर किस पर लगेगा प्रतिबंध

वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक हरि मोहन ने आगे बताया कि यह सुविधा मंडल के अंतर्गत शुरू कर दी गई है और प्रदान किए गए मोबाइल नंबर पर क्यूआर कोड उत्पन्न करने के लिए लिंक के साथ एसएमएस भेजा जा रहा है। कोविड -19 के कारण मौजूदा परिस्थितियों के मद्देनजर यात्रियों को इस संपर्क रहित टिकट जाँच उपयोगिता के माध्यम से अपने टिकटों की जांच के लिए जागरूक किया जा रहा है। ताकि कोविड -19 के प्रसार को रोका जा सके। सभी टिकट चेकिंग स्टाफ को भी इस प्रणाली को लोकप्रिय बनाने के लिए संवेदनशील बनाया जा रहा है।

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें