ambala today news गृहमंत्री  अनिल विज ने किया इंजीनियरिंग डिग्री, डिप्लोमाकोर्स हेतु आरंभ की गई ऑनलाइन दाखिला प्रक्रिया का उद्घाटन

(अंबाला कवरेज) तकनीकी शिक्षा विभाग हरियाणा द्वारा इंजीनियरिंग डिग्री एवम् डिप्लोमाकोर्स हेतु आरंभ की गई ऑनलाइन दाखिला प्रक्रिया का उद्घाटन गृहमंत्री  अनिल विज के कर कमलों द्वारा किया गया । कोविड-19 के कारण उत्पन्न परिस्थितियों के चलते जहां छात्र छात्राओं को विभिन्न संस्थानों में जाकर दाखिला प्रक्रिया को पूर्ण करना कठिन है वहीं बिना मूल प्रमाण पत्रों के उनके प्रमाणपत्र सत्यापन का कार्य संभव नहीं जो दाखिले की एक आवश्यक स्थिति है। इस स्थिति को सरल बनाने हेतु विभाग ने राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र हरियाणा की मदद से एक विशेष सॉफ्टवेयर तैयार किया है जिसका प्रयोग इस बार दाखिले हेतु किया जाएगा। यह सॉफ्टवेयर न सिर्फ ऑनलाइन प्रार्थनापत्र स्वीकार करेगा अपितु डिजिलॉकर की मदद से उनके प्रमाणपत्रों का सत्यापन भी करेगा तथा इस प्रकार भौतिक रूप से उपस्थिति ना होने पर भी विद्यार्थियों हेतु इस वर्ष सत्र 2020-21 के दाखिले संपन्न कराए जाएंगे। इस प्रक्रिया में ऑटोमैटिक चैट बोर्ड की व्यवस्था भी है जो उम्मीदवारों को फॉर्म भरते समय आई किसी भी समस्या का स्वचालित समाधान प्रस्तुत करती रहेगी।

ambala today newsपढ़िए खबर: स्थानांतरण नीति के अनुसार पहली पसंद का स्टेशन किस-किस कर्मचारी को दिया जाएगा

गृहमंत्री  अनिल विज ने अंकुर गुप्ता (वित्त आयुक्त तकनीकी शिक्षा विभाग) तथा  अजीत बालाजी जोशी (डायरेक्टर जनरल तकनीकी शिक्षा) को बधाई देते हुए इसे एक सराहनीय कदम बताया । उन्होंने इस सॉफ्टवेयर तथा व्यवस्था की सफलता हेतु शुभकामनाएं देते हुए कहा कि मुझे ख़ुशी है कि हरियाणा तकनीकी शिक्षा विभाग उद्योग की आवश्यकतानुसार उन्नत और अद्यतन ए आई सी टी ई मॉड्यूल पाठ्यक्रम लागू करके विद्यार्थियों को विश्वस्तरीय प्रतिस्पर्धाओं हेतु तैयार करने हेतु प्रयासरत है ।विभाग के डायरेक्टर के के कटारिया ने बताया कि ऑनलाइन काउंसलिंग की प्रक्रिया देश में सर्वप्रथम हरियाणा तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा सत्र 2006-07 के दाखिलों में आरंभ की गई थी जिसे सहारा भी गया था और अनेको अवॉर्ड भी मिले थे। उन्होंने यह भी बताया कि अब जो नया सॉफ्टवेयर बनाया गया है उसमे प्रमाणपत्र सत्यापन की सुविधा है और इसके लिए डिजिलॉकर पर उम्मीदवारों द्वारा अपलोड किए गए प्रमाणपत्रों का इस्तेमाल किया जाएगा । उन्होंने यह भी बताया कि विभिन्न राज्यों के डिजिलॉकरों तक पहुंच कर उस राज्य के उम्मीदवारों के प्रमाणपत्र सत्यापन हेतु अनुमति पत्र ले लिए गए हैं तथा इनके लिंक विभिन्न संस्थानों को उपलब्ध करा दिए जाएंगे जिसका इस्तेमाल करके यह प्रक्रिया सरलता से पूर्ण की जा सकेगी।

ambala today news भ्रष्ट अधिकारी को किसी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा चाहे वह कितना ही बड़ा क्यों ना हो

पूनम प्रतिभा, ज्वाइंट डायरेक्टर हरियाणा राज्य तकनीकी शिक्षा सोसायटी, ने बताया कि विभिन्न बहूतकनीकी संस्थानों से निकलने वाले विद्यार्थियों को भारतीय रेलवे, गेल, मारुति, पावरग्रिड, एन टीपीसी सहित अनेको कंपनियो में रोजगार के अच्छे अवसर प्राप्त होते है तथा हरियाणा के बहुतकनीकी संस्थानों में बाज़ार की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस स्थापित किए गए हैं जो उद्योगों की आवश्यक्तानुसार बेहतर डिप्लोमा इंजिनियर उत्पन्न करते हैं । उन्होंने बताया कि हरियाणा में वर्तमान में 37 राजकीय  बहुतकनीकी संस्थान हैं तथा 4 सहायता प्राप्त संस्थान है जिनमे 36 विभिन्न ट्रेडों में डिप्लोमा उपलब्ध हैं । इन संस्थानों में  इंजीनियरिंग डिप्लोमा की 13131 सीटें तथा वोकेशनल डिप्लोमा कोर्सकी 810 सीटें हैं जिनपर दाखिले होने हैं । इसके अतिरिक्त 151 स्व वित्तपोषित संस्थान भी है जहां इंजीनियरिंग डिप्लोमा की लगभग 26000 सीटें उपलब्ध है । उन्होंने कहा कि हम एक सौ बीस प्रतिशत दाखिलों हेतु प्रयासरत है और आशा है कि सफलता प्राप्त करेंगे । अवसर पर डॉ राजीव सपरा (प्रधानाचार्य, राजकीय बहुतकनीकी, अंबाला शहर) अनिल बुद्धिराजा (प्रधानाचार्य, एस जे पी दामला), विंदू आनंद (प्रधानाचार्य केसीजीपी अंबाला शहर) शोभित (एच एस टी ई एस), धर्मवीर सैनी सहित विभाग के अन्य सदस्य भी उपस्थित थे।

ambala today news पढ़िए खबर: शहर के इस चौक पर मिला कोरोना पॉजिटीव, दिनभर पसरा रहा सन्नाटा

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें