गांवों में बनाएं जाएंगे पार्क और व्यायामशालाएं, पढ़िए पहले चरण में किन गांवों का आया नाम

पार्क एवं व्यायामशालाओं

चंडीगढ़। ग्रामीण क्षेत्रों में खेल के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने और गाँवों में पहले चरण में 1000 पार्क एवं व्यायामशालाएं की स्थापना के अपने वादे को पूरा करने की दिशा में एक बड़ा कदम उठाते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री ने आज चंडीगढ़ से सभी 22 जिलों में विडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से 98 पार्क एवं व्यायामशालाओं का एक साथ उदघाटन किया और गुरु पूर्णिमा के अवसर पर इन पार्कों एवं व्यायामशालाओं को हरियाणावासियों को समर्पित किया। कल ही, मुख्यमंत्री ने सोनीपत जिले में 12 ऐसी व्यायामशालाओं का उद्घाटन किया था और आज के कार्यक्रम के साथ ही प्रदेश में अब तक कुल 511 पार्क एवं व्यायामशालाएं तैयार हो चुकी हैं। इसके साथ ही आने वाले तीन-चार महीनों में 300 और पार्क एवं व्यायामशालाओं का निर्माण कार्य पूरा कर लिया जायेगा ।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य सरकार द्वारा इस योजना के दूसरे चरण में 1000 और योग एवं व्यायामशालाएं प्रस्तावित हैं, जिसके लिए बजट में 250 करोड़ रुपये का प्रावधान भी किया गया है। इन सभी योग एवं व्यायामशालाओं में आयुष मंत्रालय के हैल्थ एंड वेलनेस सेंटर भी खोले जाएंगे। इसके अलावा, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के आयुष स्वास्थ्य और कल्याण केन्द्रों को बढ़ावा देने आह्वान के दृष्टिगत राज्य सरकार प्रदेश वासियों के संपूर्ण स्वास्थ्य लाभ के लिए सभी पार्क एवं व्यायामशालाओं में दो-तीन कमरों के स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र स्थापित करने पर भी विचार कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन हैल्थ एंड वेलनेस सेंटर में योग के अतिरिक्त आयुर्वेद और फिजियोथैरेपी की अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।

मुख्यमंत्री ने जिन जिलों में पार्क एवं व्यायामशालाओं का उदघाटन किया उनमें जींद में 13, सिरसा में 12, भिवानी में 10, झज्जर में 9, रोहतक में 8, फतेहाबाद में 7, चरखी दादरी, महेन्द्रगढ़, करनाल और फरीदाबाद में 6-6, हिसार में 4, पलवल और यमुनानगर में 2-2 तथा अम्बाला, गुरुग्राम, कुरुक्षेत्र, कैथल, पानीपत, रेवाड़ी और पंचकूला में एक-एक पार्क एवं व्यायामशालाएं शामिल हैं। मुख्यमंत्री कल सोनीपत जिले की ऐसी 12 पार्क एवं व्यायामशालाओं का उदघाटन कर चुके हैं। यह पार्क एवं व्यायामशालाएं 28.29 करोड़ रुपये से अधिक की राशि से निर्मित की गई हैं।
मुख्यमंंत्री ने विडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम से जुड़े विशिष्ट अतिथियों व प्रदेश के लोगों को गुरु पूर्णिमा की बधाई देते हुए अपना संदेश में कहा कि योग व गुरु का प्राचीनकाल से ही गहरा सम्बन्ध रहा है। हमारे गुरुकुलों में योग की शिक्षा प्राथमिक रूप से दी जाती रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों से देश और दुनिया के 170 से अधिक देशों के लोगों के जीवन में योगएक क्रांति के रूप में उभरकर आया हैं और दुनिया के सभी धर्मों के लोगों ने अपने धर्म व संप्रदाय से ऊपर उठकर योग को अपनाया है। उन्होंने कहा वे स्वयं भी प्रतिदिन 45 मिनट योग करते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का आत्मनिर्भर भारत बनाने का विजन भी यही है कि हर क्षेत्र में भारत के लोग आत्मनिर्भर बने, चाहे वह शारीरिक दृष्टि से हो, स्वास्थ्य की दृष्टि से हो, शिक्षा की दृष्टि से हो या फिर रोजगार की दृष्टि हो। उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश के प्रति अपने कर्तव्य को समझते हुए हर व्यक्ति को मितव्ययी, हितभोगी व नितयोगी बनाना होगा अर्थात फिजूलखर्ची न करें, हितों को भोगें तथा प्रतिदिन योग करें। उन्होंने कहा कि योग के लिए कोई आयु सीमा नहीं है, इसे किसी भी आयु का व्यक्ति कर सकता है। उन्होंने कहा इनकी रख-रखाव व व्यवस्था के कार्य जिला परिषदों को हस्तांतरित किये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम से जुड़े सभी जिला परिषदों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों व अध्यक्षों को निर्देश दिए कि इस मुद्दे के सभी प्रशासनिक कार्य आरंभ कर दें। इस पर मुख्य सचिव श्रीमती केशनी आनन्द अरोड़ा ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि समय पर सभी कार्य पूरे किये जाएंगे। इस अवसर पर मुख्य सचिव केशनी आनन्द अरोड़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री ने वर्ष 2019 में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर पंचकूला से एक साथ 401 पार्क एवं व्यायामशालाओं का उदघाटन किया था और इसी कड़ी में उन्होंने हरियाणा योग परिषद का गठन भी किया है। आज के कार्यक्रम के साथ ही प्रदेश में अब तक कुल 511 पार्क एवं व्यायामशालाएं तैयार हो चुकी हैं। इस अवसर पर ग्रामीण विकास के निदेशक श्री हरदीप सिंह, निदेशक विकास एवं पंचायत श्री सुशील सारवान, आयुष विभाग के निदेशक श्री अतुल कुमार के अलावा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थिति थे।

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें