ambala today news फर्जी वीजा थमाकर 17 लाख रुपए की ठगी, युवक को चेन्नई एयरपोर्ट पर पकड़ा

1

यमुनानगर/रादौर।  गांव दौलतपुर के एक युवक को एक व्यक्ति ने पुर्तगाल भेजने के नाम पर फर्जी वीजा कागजात थमाकर 17 लाख रूपये जालसाजी से ऐठ लिये। फर्जी वीजे के कारण युवक को चेन्नई एयरपोर्ट पर अधिकारियों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। चेन्नई पुलिस ने युवक पर जालसाजी का मामला दर्ज किया। बाद में युवक जमानत पर रिहा होकर वापिस रादौर पहुंचा। जिसके बाद प्रभावित युवक ने विदेश भेजने के नाम पर उसके साथ लाखों रूपये की ठगी करने की शिकायत रादौर पुलिस को दी। रादौर पुलिस ने प्रभावित युवक की शिकायत पर जालसाजी करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध धारा 420, 467, 468, 471 के तहत मामला दर्ज किया। मामले में नामजद व्यक्ति को अभी पुलिस द्वारा अभी गिरफतार नहीं किया गया है। गांव दौलतपुर निवासी सोहनलाल ने रादौर पुलिस को दी शिकायत में बताया कि रादौर निवासी मलकीत सिंह उसके गांव मेंं खेती करता है। एक दिन उसने बातों बातों में मलकीत सिंह को विदेश जाने की इच्छा जताई। जिस पर मलकीत सिंह ने उसको बताया कि वह उसे विदेश भिजवा सकता है। उसके बड़े बड़े एजैंट दोस्त है। जिसके बाद मलकीत ने उसे अपना पासपोर्ट दिखाने की मांग की। सोहनलाल ने मलकीत को अपना पासपोर्ट थमा दिया। कुछ दिन बाद मलकीत ने उसे फोन किया और कहा कि उसे विदेश पुर्तगाल भेजने के लिए 17 लाख रूपये का खर्च आयेगा। जिस पर सोहनलाल ने उसे अपने खाते से 1 नंबर में पैसे देने की बात कही तो मलकीत ने कहा कि उसके खाते में राशि डलवा दो। जिसके बाद सोहन ने मलकीत के आईसीआईसी बैंक के खाता नंबर 397601500395 में अपने खाता नंबर 837695 के जरिये आरटीजीएस द्वारा 9 लाख रूपये की राशि 27 दिसंबर 2019 को डलवा दी। बकाया राशि वीजा लगने के बाद देने का करार हुआ। उस समय मौके पर संजय कुमार पुत्र जगदीप व राजेश पुत्र प्रेमचंद मौजूद थे। जिसके बाद मलकीत ने उसे पुर्तगाल जाने की तैयारी करने को कहा। 10 जनवरी 2020 को मलकीत ने उसे बताया कि 22 जनवरी 2020 को उसकी चेन्नई एयरपोर्ट से फलाईट जानी है। जिसकी टिकट उसे दी गई।

Haryana School Reopen News: सरकार ने अभिभावकों पर छोड़ा फैसला, स्कूल खोलने के लिए मांगी राय, पढ़िए पूरा मामला और दे अपनी राय

वहीं मलकीत सिंह व उसके साथियों ने विदेश जाने का फर्जी वीजा स्टैंप लगाकर उसे दिया। जिसके बारे में उसे जानकारी नहीं थी। इस बीच मलकीत सिंह ने उससे बकाया राशि देने को कहा। तभी सोहनलाल ने अपने रिश्तेदारों से साढ़े 6 लाख रूपये नगद लेकर संजय व राजेश के सामने मलकीत सिंह को दिये। वहीं बकाया डेढ़ लाख रूपये की राशि पुर्तगाल पहुंचने के उपरांत देने की बात पक्की हुई। 22 जनवरी को सोहनलाल चेन्नई एयरपोर्ट पहुंचा तो एयरपोर्ट अथोरिटी के अधिकारियों ने उसके कागजातों में कुछ कमी बताकर उसे वापिस भेज दिया। एयरपोर्ट के बाहर आकर उसने मलकीत से फोन पर बात की। जिस पर मलकीत ने उसे बकाया डेढ लाख रूपये देने के उपरांत दूसरी टिकट से उसे विदेश भेजने की बात कही। जिस पर सोहनलाल ने अपनी मौसी के बेटे संजय कुमार के माध्यम से मलकीत के खाते में 27 जनवरी 2020 को डेंढ लाख रूपये की राशि डलवाई।
Ambala Today News: कौन होगा सकता है अंबाला भाजपा का जिलाध्यक्ष, पढ़िए अंबाला कवरेज की स्पेशल रिपोर्ट

जिसके बाद मलकीत ने सोहनलाल को 31 जनवरी 2020 को चेन्नई एयरपोर्ट से दूसरी टिकट भिजवाकर जाने की बात कही। 31 जनवरी को जब सोहनलाल चेन्नई एयरपोर्ट पर गया तो जांच अधिकारियों ने उसके  पुर्तगाल के वीजे की जांच की तो उसका वीजा फर्जी निकला। जिसके बाद एयरपोर्ट अथोरिटी के अधिकारियों ने सोहनलाल को चेन्नई पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने सोहनलाल के विरूद्ध जालसाजी का मामला दर्ज किया। 13 फरवरी 2020 को कोर्ट से सोहनलाल को जमानत मिली और वह वापिस गांव लौटा। वापिस लौटने के बाद उसने मलकीत से अपनी 17 लाख रूपये की राशि वापिस मांगी। लेकिन मलकीत ने उसकी राशि उसे वापिस देने से साफ  मना कर दिया और उसे जान से मारने की धमकी दी।

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें