प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पूरे भारत के लिए एक देश, एक राशन-कार्ड का ऐलान किया-शिक्षा मंत्री कंवरपाल

11

यमुनानगर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों की रोटी की चिंता की ,दीवाली की चिंता की, छठ पूजा की चिंता की,मोदी गरीबों का दर्द समझते हैं,किसान हमारे देश का अन्नदाता है यह शब्द  शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहे। हरियाणा सरकार में कैबिनेट शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि  त्यौहार के समय गरीब की जरूरत को समझने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का हृदय से आभार और धन्यवाद करते है। मंत्री कंवरपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पूरे भारत के लिए एक देश, एक राशन-कार्ड का ऐलान किया है, जिसका लाभ अपने घर से दूर काम कर रहे करोड़ो लोगों को होगा। वह अब देश में किसी भी राज्य में काम करते हुए राशन-कार्ड का लाभ उठा सकते हैं,साथ ही में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के नवंबर 2020 तक विस्तार होने से 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन के रूप में सीधे लाभ मिल सकेगा।

इस योजना के विस्तार में भाजपा सरकार 90 हजार करोड़ रुपये से अधिक खर्च करेगी , इस निर्णय से अंत्योदय की संकल्पना को मजबूती मिली है।शिक्षा मंत्री ने किसानों व करदाताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि किसान व करदाता हमारे देश की मजबूत इकाई है, कैबिनेट मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने बताया कि गरीब कल्याण पैकज के तहत अप्रैल 2020 से शुरू की गई इस योजना पर नवंबर 2020 तक लगभग 1.50 लाख करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है ,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस संक्रमण काल में जान और जहान दोनो को बचाने हेतु किए गए हर संभव प्रयास के लिए हम सब उनका अभिनंदन करते है,हम सारे एहतियात बरतते हुए आर्थिक गतिविधियों को और आगे बढ़ाएंगे,हम आत्मनिर्भर भारत के लिए  दिन-रात कार्य करेंगें , हम सब ‘लोकल के लिए वोकल होंगे।

इसी संकल्प के साथ हम 130 करोड़ देशवासियों को मिलजुल कर, संकल्प के साथ काम भी करना है, आगे भी बढऩा है। शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने सभी नागरिकों से आपील करते हुए कहा कि सभी हरियाणा प्रदेशवासियों से अनुरोध है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का  पालन कीजीए ,जिस प्रकार आप सभी नागरिकों ने लॉकडाउन के दौरान सतर्कता दिखाई थी, उसी प्रकार अनलॉक 2 में भी सतर्कता दिखाएं , ख़ुद की व दूसरों की सुरक्षा के लिए नियमों का पालन करें , कोरोना वायरस कोविड़ 19 संक्रमण से परेशान पूरी दुनिया सोशल डिस्टैंस का पालन कर रही है और इसमें अभिवादन की प्राचीन भारतीय शैली नमस्ते पर पूरी दुनिया ने भरोसा जताया है , अभी  जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से बर्लिन में मिलीं तो दोनों ने नमस्ते करके एक दूसरे का अभिवादन किया।

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें