धरने पर बैठे पीटीआई टीचर्स को समर्थन देने पहुंचे बसपा प्रदेशाध्यक्ष गुरमुख सिंह, यह कहीं बड़ी बात

धरने पर बैठे पीटीआई टीचर्स को समर्थन देने पहुंचे बसपा प्रदेशाध्यक्ष गुरमुख सिंह

अंबाला। अंबाला शहर डीईओं आफिस में हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति का क्रमिक अनशन के पांचवे दिन भी जारी रहा। शुक्रवार को बहुजन समाज पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष गुरमुख सिंह एडवोकेट, बसपा जिलाध्यक्ष करनैल सिंह नग्गला, बसपा जिला महासचिव रविंद्र सिंह धीमान, अंबाला शहर विधानसभा अध्यक्ष अजमेर जंडली, जरनैल सिंह, अमन कुमार ढकौला, पवन कुमार, हरमेश सिंह पंजोखरा ने क्रमिक अनशन पर बैठे हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति को अपना समर्थन दिया। इस दौरान गुरमुख सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के 8 अप्रैल 2020 के निर्णय के बाद 1,983 पीटीआई अध्यापकों की नौकरी बर्खास्त करना 2,000 परिवारों के पेट पर असंवेदनशील तरीके से लात मारना है। इन पीटीआई अध्यापकों ने दस साल से अधिक प्रदेश में निस्वार्थ सेवा की है और कई साथी तो अब सेवानिवृत्त भी हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय में न तो पीटीआई चयन प्रक्रिया में कोई भ्रष्टाचार पाया गया और न ही किसी भी चयनित पीटीआई अध्यापक की ओर से कोई द्वेषपूर्ण काम किया गया। इस निर्णय के उपरांत 1,983 पीटीआई अध्यापकों की बर्खास्तगी से इनके व इनके परिवारों के सपने व भविष्य पूरी तरह से धराशायी हो गए हैं। उनका कहना है कि सरकार का काम नौकरी देना है, नौकरी छीनना नहीं। खासतौर से तब, जब चयन प्रक्रिया में न तो कोई भ्रष्टाचार पाया गया और न ही चयनित पीटीआई अध्यापकों का कोई कसूर पाया गया। गुरमुख सिंह ने कहा कि एक तरफ सरकार कहती है कि किसी का रोजगार नही छीना जाएगा ओर दूसरी तरफ रोजगार लोगों को बेरोजगार करने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने इन हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति के साथ जुल्म ओर किया ओर दुबारा नौकरी पर नही रखा गया तो बहुजन समाज पार्टी पीटीआई शिक्षकों के समर्थन में हरियाणा में सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेगी।

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें