विकास कार्यों में अब नहीं होंगी घटिया टाइलें इस्तेमाल, निर्माण से पहले स्ट्रेंथ टेंस्टिंग मशीन से होगी जांच

जानकारी देते नगर निगम कमिश्नर धर्मवीर सिंह

यमुनानगर। नगर निगम के विकास कार्यों व सड़कों के निर्माण में ठेकेदार अब घटिया क्वालिटी की इंटरलॉक टाइलों का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। टाइलों की गुणवत्ता निर्माण के दौरान की जांची जाएगी। इसके लिए नगर निगम जल्द ही ऑटोमेटिक डिजिटल कांप्रेसिव स्ट्रेंथ टेस्टिग मशीन खरीदने जा रहा है। इसकी जांच में चंद मिनटों में ही टाइलों की क्वालिटी का स्तर सामने होगा। जिससे निगम अधिकारियों व शिकायतकर्ताओं को रिपोर्ट के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा। घटिया क्वालिटी की इंटरलॉक टाइलों के इस्तेमाल होने की शिकायतें मिलने पर नगर निगम की ओर से यह फैसला लिया गया। निगम की ओर से इसके लिए टेंडर कॉल कर दिए गए है। टेंडर अलॉट होते ही मशीन खरीदी जाएगी।

अभी एनआईटी से 20 से 25 दिन में आती है रिपोर्टः

इंटरलॉक टाइलों की गुणवत्ता की जांच के लिए सैंपल राष्ट्रीय प्राद्यौगिकी संस्थान (एनआइटी) जाते हैं। रिपोर्ट आने के बाद ही ठेकेदार को उनके कामों की पेमेंट की जाती है। विशेष परिस्थितियों में ही सैंपल श्रीराम इंस्टीट्यूट फॉर इंडस्ट्रीयल रिसर्च में जांच के लिए भेजा जाता है। यमुनानगर-जगाधरी नगर निगम की बात की जाए तो 80-90 सैंपल हर माह जांच के लिए जाते हैं। 20-25 दिन में रिपोर्ट आती है। लेकिन ऑटोमेटिक डिजिटल कांप्रेसिव स्ट्रेंथ टेस्टिग मशीन आने के बाद अब रिपोर्ट के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा। मशीन से अधिकारी मौके पर ही टाइलों की क्वालिटी जांच कर सकेंगे।

इंटरलॉकिंग टाइलों सेबन रही निगम की अधिकांश सड़कें व गलियांः

नगर निगम एरिया में कंकरीट की बजाय इंटरलॉकिग टाइलों के प्रयोग को अधिक तरजीह दी जा रही है। सभी वार्डो में अधिकांश सड़कें व गलियां इंटरलॉकिग टाइलों से ही बन रही हैं। हर वार्ड में इन दिनों काम चल रहा है। कहीं सड़क को नए सिरे से बनाया जा रहा है तो कहीं चौड़ाई बढ़ाई जा रही है। यहां तक कि मुख्य मार्गो के किनारे भी इंटरलॉकिग टाइलों का ही प्रयोग हो रहा है। ऐसे में टाइलों की क्वालिटी पर ध्यान देना अधिकारियों के लिए और भी जरूरी हो जाता है।
वर्जन
नगर निगम कमिश्नर धर्मवीर सिंह का कहना है कि नगर निगम के विकास कार्यों में अच्छी क्वालिटी की इंटरलॉकिग टाइलों का इस्तेमाल करने की ठेकेदारों को स्पष्ट हिदायतें दी हुई है। ताकि इनकी लाइफ लंबी हो। फिर भी कई बार निम्न स्तर की टाइलों के इस्तेमाल की शिकायत आ जाती है। ऐसे में तुरंत जांच के लिए अब नगर निगम अपने स्तर पर ऑटोमेटिक डिजिटल कांप्रेसिव स्ट्रेंथ टेस्टिग मशीन खरीदने की योजना बनाई है। इसके लिए टेंडर कॉल किया गया है। टेंडर अलॉट होते ही मशीन खरीदी जाएगी।

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें