ambala today news हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग की राज्य स्तरीय कमेटी की बैठक में प्रारूप विकास योजना-2041 को स्वीकृति प्रदान की

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग की राज्य स्तरीय कमेटी की बैठक में नीलोखेड़ी-तरावड़ी, बरवाला, जुलाना और उचाना की प्रारूप विकास योजना-2041 को स्वीकृति प्रदान की गई। इसके अलावा, असंध की अंतिम विकास योजना-2031 में संशोधन को भी स्वीकृति प्रदान की गई। नीलोखेड़ी-तरावड़ी की प्रारूप विकास योजना वर्ष 2041 तक 2,30,000 व्यक्तियों की अनुमानित आबादी के लिए तैयार की गई है। प्रस्तावित औसत आवासीय घनत्व 300 व्यक्ति प्रति हेक्टेयर होगा। इस विकास योजना में 767.89 हेक्टेयर क्षेत्र को आवासीय उद्देश्य के लिए और 143.00 हेक्टेयर क्षेत्र को व्यावसायिक उद्देश्य के लिए रखा गया है। इसी प्रकार, 282.72 हेक्टेयर क्षेत्र को औद्योगिक उद्देश्य के लिए तथा 243.38 हेक्टेयर क्षेत्र परिवहन और संचार के लिए, 45.81 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक उपयोगिताओं के लिए, 53.00 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक और अर्ध-सार्वजनिक उपयोग के लिए जबकि 371.28 हेक्टेयर क्षेत्र ओपन स्पेस के लिए रखा गया है। बरवाला की प्रारूप विकास योजना वर्ष 2041 तक 1,10,000 लोगों की अनुमानित आबादी के लिए तैयार की गई है। औसत आवासीय सेक्टर घनत्व 250 व्यक्ति प्रति हेक्टेयर होगा। इस विकास योजना में 558 हेक्टेयर क्षेत्र को आवासीय उद्देश्य के लिए, 55 हेक्टेयर क्षेत्र को वाणिज्यिक उद्देश्य के लिए, 87 हेक्टेयर क्षेत्र को औद्योगिक उद्देश्य के लिए, 122 हेक्टेयर क्षेत्र को परिवहन और संचार के लिए, 37 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक उपयोगिताओं के लिए, 120 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक और अर्ध सार्वजनिक उपयोगों के लिए, 123 हेक्टेयर क्षेत्र ओपन स्पेस के लिए रखा गया है।

ambala today news हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने कहा रिफाइंड शुगर रोहतक की सहकारी चीनी मिल में तैयार की जा रही

जुलाना की प्रारूप विकास योजना 2041 तक 76,000 व्यक्तियों की अनुमानित आबादी के लिए तैयार की गई है। औसत आवासीय सेक्टर घनत्व 250 व्यक्ति प्रति हेक्टेयर होगा। इस प्रारूप विकास योजना में 216 हेक्टेयर क्षेत्र आवासीय उद्देश्य के लिए, 25 हेक्टेयर क्षेत्र वाणिज्यिक उद्देश्य के लिए, 46 हेक्टेयर क्षेत्र औद्योगिक उद्देश्य के लिए, 84 हेक्टेयर क्षेत्र परिवहन और संचार के लिए,  30 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक उपयोगिताओं के लिए, 41 हेक्टेयर क्षेत्र  सार्वजनिक और अर्ध सार्वजनिक उपयोग के लिए, 81 हेक्टेयर क्षेत्र ओपन स्पेस और ग्रीन बेल्ट के लिए रखा गया है। उचाना की प्रारूप विकास योजना भी 2041 तक 93,000 व्यक्तियों की अनुमानित आबादी के लिए तैयार की गई है। औसत आवासीय सेक्टर घनत्व 250 व्यक्ति प्रति हेक्टेयर होगा। इस प्रारूप विकास योजना में 289 हेक्टेयर क्षेत्र आवासीय उद्देश्य के लिए, 52 हेक्टेयर क्षेत्र वाणिज्यिक उद्देश्य के लिए, 33 हेक्टेयर क्षेत्र औद्योगिक उद्देश्य के लिए, 125 हेक्टेयर क्षेत्र परिवहन और संचार के लिए, 37 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक उपयोगिताओं के लिए, 34 हेक्टेयर क्षेत्र  सार्वजनिक और अर्ध सार्वजनिक उपयोग के लिए, 52 हेक्टेयर क्षेत्र ओपन स्पेस और ग्रीन बेल्ट के लिए रखा गया है। इसी प्रकार, असंध की संशोधित विकास योजना वर्ष 2031 तक 1.17 लाख व्यक्तियों की अनुमानित आबादी के लिए तैयार की गई है। औसत आवासीय घनत्व 250 व्यक्ति प्रति हेक्टेयर होगा। संशोधित विकास योजना-2031 अतिरिक्त अनाज मण्डी का निर्माण करने, जमीनी वास्तविकताओं या सैटेलाइट इमेजरीज़ के अनुसार प्रस्तावित सेक्टर की सडक़ों का समावेश करने के उद्देश्य से तैयार की गई है। इस संशोधित विकास योजना में 467.16 हेक्टेयर क्षेत्र आवासीय उद्देश्य के लिए, 114.15 हेक्टेयर क्षेत्र वाणिज्यिक उद्देश्य के लिए, 117 हेक्टेयर क्षेत्र औद्योगिक उद्देश्य के लिए, 182.69 हेक्टेयर क्षेत्र परिवहन और संचार के लिए, 56 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक उपयोगिताओं के लिए, 70 हेक्टेयर क्षेत्र सार्वजनिक और अर्ध-सार्वजनिक उपयोग के लिए और 171 हेक्टेयर क्षेत्र ओपन स्पेस के लिए रखा गया है। बैठक में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, वन एवं वन्यजीव विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री आलोक निगम, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती धीरा खंडेलवाल, बिजली विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री टी. सी. गुप्ता, परिहवन विभाग के प्रधान सचिव श्री अनुराग रस्तोगी, नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के प्रधान सचिव श्री अपूर्व कुमार सिंह, नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के निदेशक श्री के. मकरंद पांडुरंग सहित विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

ambala today news हरियाणा के शिक्षा एवं वन मंत्री चौधरी कंवर पाल ने कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़े इन अध्यादेशो से किसानों की आर्थिक दशा में सुधार होगा और कृषि को लाभकारी बनाने में सफलता मिलेगी

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें