बोर्ड रिजल्ट की तैयारी अंतिम चरण में, जानें किस आधार पर मिलेंगे नंबर

प्राइवेट स्कूल वेलफेयर सोसाइटी

नई दिल्‍ली। सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 10वीं और 12वीं के रिजल्ट आने में अब बस 15 दिन बाकी है. सीबीएसई ने बोर्ड रिजल्ट को लेकर तैयारी पूरी कर ली है. जल्द ही बोर्ड रिजल्ट पैटर्न पर काम करना शुरू कर देगी. इससे पहले, केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि रिजल्ट के बाद भी छात्रों को स्कोरिंग करने का दोबारा मौका मिल सकता है. सीबीएसई बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक डॉ संयम भारद्वाज ने बताया कि बोर्ड रिजल्ट को लेकर तैयारी पूरी है, 15 जुलाई को बोर्ड रिजल्ट घोषित कर दिया जायेगा. बता दें कि सीबीएसई ने सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान कहा था कि बोर्ड रिजल्ट को रद्द कर दिया गया है. साथ ही स्कोरिंग पैटर्न के आधार पर छात्रों को नंबर मिलेगा.

तीन विषयों के अंकों के आधार पर रिजल्ट निकाला जाएगा
वे स्टूडेंट्स जो तीन से ज्यादा विषयों की परीक्षा दे चुके हैं, उनके तीन विषयों के अंकों के आधार पर रिजल्ट डिक्लेयर होगा. ये तीन विषय वो होंगे जिसमें स्टूडेंट के सबसे अच्छे अंक आये होंगे.
असेसमेंट स्कीम से असंतुष्ट स्टूडेंट्स को करना होगा ये काम
असेसमेंट स्कीम से असंतुष्ट स्टूडेंट्स दे सकते हैं परीक्षा: अगर कोई 12वीं का स्टूडेंट्स असेसमेंट स्कीम के आधार पर दिए गए मार्क्स से संतुष्ट नहीं है तो वे परीक्षा का ऑप्शन भी चुन सकते हैं.
स्टूडेंट्स के स्वास्थ्य को दी गई है प्राथमिकता
एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच होने वाली पेंडिंग परीक्षाओं को रद्द करते समय सीबीएसई बोर्ड ने स्टूडेंट्स के स्वास्थ्य को प्राथमिकता दी है. बोर्ड ने यह पाया कि परीक्षा करवाने से स्टूडेंट्स के संक्रमित होने का ज्यादा खतरा है. इस लिए बोर्ड ने परीक्षा कैंसिल करने का फैसला लिया.
सीबीएसई कर रहा है ऑप्शनल सब्जेक्ट एप्लाइड मैथमैटिक्स की शुरूआत
सीबीएसई शैक्षिक सत्र 2020-21 से कक्षा 11वीं, 12वीं के लिए एक नया ऑप्शनल सब्जेक्ट एप्लाइड मैथमैटिक्स (Applied Mathematics) की शुरूआत करने जा रहा है.

कई राज्यों में लॉकडाउन बढ़ने से परीक्षा पर संशय के बादल मंडराएं
कई राज्यों में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन बढ़ने से NEET 2020 और JEE Main 2020 की परीक्षा पर संशय के बादल और ज्यादा गहराते नजर आ रहें हैं क्योंकि महाराष्ट्र, नागालैंड, झारखंड, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु जैसे राज्यों में लॉकडाउन 31 जुलाई तक बढ़ गया है. इन राज्यों में स्टूडेंट्स कैसे इन परीक्षाओं में शामिल हो पायेंगें?
बेस्ट परफॉर्मिंग विषयों के औसत अंक का आधार पर मिलेंगे मार्क्स
अगर कोई स्टूडेंट्स सीबीएसई की 10वीं, 12वीं की 3 या उससे अधिक पेपर्स की परीक्षा दिए हैं तो उनमें बेस्ट परफॉर्मिंग वाले तीन विषयों के औसत अंत के आधार पर अन्य विषयों में मार्क्स दिए जायेंगें.

31 जुलाई तक स्कूल कॉलेज बंद
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अनलॉक-2 का दिशानिर्देश जारी कर बताया है कि देशभर में सभी स्कूल और कॉलेज 31 जुलाई तक बंद रहेगी. गृह मंत्रालय के इस आदेश के बाद नीट और जेईई से जुड़े छात्रों ने एग्जाम रद्द करने की मांग सोशल मीडिया पर उठा रहे हैं.
नीट एग्जाम को लेकर अभिभावकों ने लिखा मंत्रालय को पत्र
नीट एग्जाम को लेकर अभिभावकों ने स्वासथ्य मंत्रालय को पत्र लिखा है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार पत्र में 16 प्वाइंट का उल्लेख किया गया है, जिसमें कहा गया है कि देश में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार 15 हजार से अधिक मरीज सामने आ रहे हैं, ऐसे में एग्जाम लेना खतरनाक हो सकता है.
2300 करोड़ की मांग
केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने वित्त आयोग से कहा है कि ऑनलाइन क्लास चलाने और उसकी व्यवस्था करने के लिए पांच वर्षों की कुल खर्च 2306.4 करोड़ है, जो उसे दिया जाए. मंत्रालय ने कहा है कि कोरोना वायरस के खतरे के कारण सभी जगह ऑनलाइन क्लासेज की व्यवस्था सुचारू रूप से किया जा सके.
सिलेबस में हो सकती है कटौती
कोरोना वायरस के कारण इस साल स्कूलों में ऑनलाइन क्लास (Online Classes) हो रही है. शिक्षण संस्थान पूरी तरह से बंद हैं, इस कारण से पढ़ाई पर भी असर पड़ा है. खबर है कि सीबीएसई बोर्ड (CBSE Board) का सिलेबस 33 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है, इसके अलावा पेपर पैटर्न में भी बदलाव किए जाने की बात हो रही है. सीबीएसई अपने नए शैक्षणिक सत्र (academic year) में कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए बदलाव कर सकता है.

नीट और जेईई एग्जाम पर भी फैसला जल्द
सीबीएसई बोर्ड एग्जाम कैंसिल होने के साथ ही नीट और जेईई एक एग्जाम पर भी खतरा मंडरा रहा है. छात्र सोशल मीडिया पर इसके खिलाफ #NoExamsInCovid कैंपेन चला रहे हैं, जिसके बाद माना जा रहा है कि इसपर आज फैसला हो सकता है. बता दें कि जेईई का एग्जाम जहां 18 और 19 जुलाई को है, वहीं नीट एग्जाम 25 जुलाई को होना है.
इन्हें नहीं मिलेगा मार्किंग पैटर्न का लाभ
वैसे छात्र जिनके सभी पेपर पूरे हो गए थे, उनके लिए परीक्षा में प्रदर्शन के आधार पर अंक घोषित किए जाएंगे. इन छात्रों के लिए कोई भी मार्किंग पैटर्न नहीं है.
परीक्षा देने का मिलेगा दोबारा मौका
केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि छात्र बोर्ड नतीजों से संतुष्‍ट नहीं होंगे तो उनके पास परीक्षा देने का विकल्‍प होगा. वो बाद में परीक्षा देकर अपने नंबरों में सुधार कर सकते हैं. इसके साथ ही कहा कि परीक्षाओं को लेकर छात्रों और अभिभावकों के मन में एक तनाव उत्‍पन्‍न हो गया था. अब परीक्षाओं और रिजल्‍ट को लेकर तस्‍वीर साफ हो गई है
इंटर्नल एसेसमेंट मार्क्स की प्रक्रिया का ऐलान जल्द
सीबीएसई ने इंटर्नल एसेसमेंट मार्क्स के लिए आवेदन प्रक्रिया अभी शुरू नहीं की है. यह प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है. सीबीएसई यह प्रक्रिया एक या दो दिन में शुरू कर सकती है.
सेल्फ स्टडी विषयों का भी होगा मूल्यांकन
सीबीएसई ने नोटिफिकेशन जारी कर कहा है कि बोर्ड एग्जाम में शिक्षकों द्वारा पढ़ाए गए विषयों का भी मूल्यांकन हो सकेगा. इसके अलावा, बोर्ड ने कहा है कि छात्रों द्वारा सेल्फ स्टडी के विषयों को भी मूल्यांकन में कंसिडर किया जाएगा

15 जुलाई को रिजल्ट
सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 10वीं और 12वीं के रिजल्ट आने में अब बस 15 दिन बाकी है. सीबीएसई ने बोर्ड रिजल्ट को लेकर तैयारी पूरी कर ली है. जल्द ही बोर्ड रिजल्ट पैटर्न पर काम करना शुरू कर देगी. इससे पहले, केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि रिजल्ट के बाद भी छात्रों को स्कोरिंग करने का दोबारा मौका मिल सकता है. सीबीएसई बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक डॉ संयम भारद्वाज ने बताया कि बोर्ड रिजल्ट को लेकर तैयारी पूरी है, 15 जुलाई को बोर्ड रिजल्ट घोषित कर दिया जायेगा. बता दें कि सीबीएसई ने सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान कहा था कि बोर्ड रिजल्ट को रद्द कर दिया गया है. साथ ही स्कोरिंग पैटर्न के आधार पर छात्रों को नंबर मिलेगा.

About Post Author

Leave a Comment

और पढ़ें